Home / Tag Archives: Raqs

Tag Archives: Raqs

Aasaniyan Hain Nazar Mein Uski Mushkilon Se Jo Bekhabar Hai..

Sandeep Bhutani Poetry

Aasaaniyaan hain nazar mein uss ki mushkilon se jo bekhabar hai,
haar baitha hai jo dum ab, dawaa duaa bhi be-asar hai.

 Baad muddat ke musalsal dil ka manzar raqs mein hai,
 rehnumaai aur ruswaai ka aalam be-sabab hai.

 Arth hai jeevan ka chalna, sirf chalte rehna hai..
 ruk gaya jo raah-e manzil dar-asal woh be-hunar hai.

 Berukhi be-intehaa hai, be-qaraari baahmi..
 aaye hain mehfil mein maano iss tarah ki be-matlab hai.

 Hai kaam mushkil, chale guzaara anna ko mehfooz rakh ke chalna..
 jhuke naa sar jis kisi ke aage, nazar mein sab ki be-adab hai. !!

आसानियाँ हैं नज़र में उसकी , कि मुश्किलों से जो बेखबर है..
 हार बैठा है जो दम अब , दवा दुआ भी सब बेअसर है. 

बाद मुद्दत के मुसलसल दिल का मंज़र रक़्स में है,
 रहनुमाई और रुस्वाई का आलम बेसबब है.

 अर्थ है जीवन का चलना , सिर्फ चलते रहना है..
 रुक गया जो राह-ए-मंज़िल दर-असल वो बेहुनर है.

 बेरुख़ी बे-इंतिहा है , बेकरारी बाहमी..
 आए हैं महफ़िल में मानो इस तरह कि बेतलब हैं.

 है काम मुश्किल , चले गुज़ारा अना को महफ़ूज़  रख के चलना..
 झुके न सर जिस किसी के आगे , नज़र में सब की वो बेअदब है. !

 

Sandeep Bhutani Poetry Collection

Subscribe Us For Urdu Poetry. Urdu Legend Poets, Ghazals, Nazms, Poetry. Shayari, Poems, Shair.