Home / Tag Archives: Diwali

Tag Archives: Diwali

Watan Se Mohabbat Kare Ja Rahe Hain..

Sandeep Bhutani Poetry

Watan se mohabbat kare jaa rahe hain,
lutaane ki jaan-tan kasam kha rahe hain.

Hawaa mein haraarat ab haazir nahin hai,
mausam ke tewar badal jaa rahe hain.

Shraadhon ke baad ab naraaton ke chalte,
dashehra – diwaali nazar aa rahe hain.

Badhte hain baazaar mazboot rupaiya,
dollar mein paisa watan laa rahe hain.

Jaaga junoon hai toh karna hai ab kuchh,
dushwaariyon par vijay pa rahe hain.

Azaab-e siyaasat ke naami khilaadi,
karmon ki apne sazaa pa rahe hain.

Hindu – musalmaan rahe ab naa koi,
insaaniyat ki ghazal gaa rahe hain. !!

 वतन से मोहब्बत करे जा रहे हैं,
 लुटाने की जाँ तन कसम खा रहे हैं.

 हवा में हरारत अब हाज़िर नहीं है,
 मौसम के तेवर बदल जा रहे हैं. 

श्राद्धों के बाद अब नरातों के चलते,
 दशहरा दीवाली नज़र आ रहे हैं.

 बढ़ते हैं बाज़ार, मज़बूत रूपया..
 डॉलर में पैसे वतन ला रहे हैं.

 जागा जुनूं है तो करना है अब कुछ,
 दुश्वारियों पर विजय पा रहे हैं.

 अज़ाब-ए-सियासत के नामी खिलाड़ी,
 कर्मों की अपने सज़ा पा रहे हैं.

 हिंदू मुसलमां रहे अब न कोई,
 इंसानियत की ग़ज़ल गा रहे हैं. !!

 

Sandeep Bhutani Poetry Collection

Subscribe Us For Urdu Poetry, Ghazals, Poetry, Shayari, Nazms, Poems.