Home / Poets / Sandeep Bhutani

Sandeep Bhutani

Aasaniyan Hain Nazar Mein Uski Mushkilon Se Jo Bekhabar Hai..

Sandeep Bhutani Poetry

Aasaaniyaan hain nazar mein uss ki mushkilon se jo bekhabar hai,
haar baitha hai jo dum ab, dawaa duaa bhi be-asar hai.

 Baad muddat ke musalsal dil ka manzar raqs mein hai,
 rehnumaai aur ruswaai ka aalam be-sabab hai.

 Arth hai jeevan ka chalna, sirf chalte rehna hai..
 ruk gaya jo raah-e manzil dar-asal woh be-hunar hai.

 Berukhi be-intehaa hai, be-qaraari baahmi..
 aaye hain mehfil mein maano iss tarah ki be-matlab hai.

 Hai kaam mushkil, chale guzaara anna ko mehfooz rakh ke chalna..
 jhuke naa sar jis kisi ke aage, nazar mein sab ki be-adab hai. !!

आसानियाँ हैं नज़र में उसकी , कि मुश्किलों से जो बेखबर है..
 हार बैठा है जो दम अब , दवा दुआ भी सब बेअसर है. 

बाद मुद्दत के मुसलसल दिल का मंज़र रक़्स में है,
 रहनुमाई और रुस्वाई का आलम बेसबब है.

 अर्थ है जीवन का चलना , सिर्फ चलते रहना है..
 रुक गया जो राह-ए-मंज़िल दर-असल वो बेहुनर है.

 बेरुख़ी बे-इंतिहा है , बेकरारी बाहमी..
 आए हैं महफ़िल में मानो इस तरह कि बेतलब हैं.

 है काम मुश्किल , चले गुज़ारा अना को महफ़ूज़  रख के चलना..
 झुके न सर जिस किसी के आगे , नज़र में सब की वो बेअदब है. !

 

Sandeep Bhutani Poetry Collection

Subscribe Us For Urdu Poetry. Urdu Legend Poets, Ghazals, Nazms, Poetry. Shayari, Poems, Shair.

Watan Se Mohabbat Kare Ja Rahe Hain..

Sandeep Bhutani Poetry

Watan se mohabbat kare jaa rahe hain,
lutaane ki jaan-tan kasam kha rahe hain.

Hawaa mein haraarat ab haazir nahin hai,
mausam ke tewar badal jaa rahe hain.

Shraadhon ke baad ab naraaton ke chalte,
dashehra – diwaali nazar aa rahe hain.

Badhte hain baazaar mazboot rupaiya,
dollar mein paisa watan laa rahe hain.

Jaaga junoon hai toh karna hai ab kuchh,
dushwaariyon par vijay pa rahe hain.

Azaab-e siyaasat ke naami khilaadi,
karmon ki apne sazaa pa rahe hain.

Hindu – musalmaan rahe ab naa koi,
insaaniyat ki ghazal gaa rahe hain. !!

 वतन से मोहब्बत करे जा रहे हैं,
 लुटाने की जाँ तन कसम खा रहे हैं.

 हवा में हरारत अब हाज़िर नहीं है,
 मौसम के तेवर बदल जा रहे हैं. 

श्राद्धों के बाद अब नरातों के चलते,
 दशहरा दीवाली नज़र आ रहे हैं.

 बढ़ते हैं बाज़ार, मज़बूत रूपया..
 डॉलर में पैसे वतन ला रहे हैं.

 जागा जुनूं है तो करना है अब कुछ,
 दुश्वारियों पर विजय पा रहे हैं.

 अज़ाब-ए-सियासत के नामी खिलाड़ी,
 कर्मों की अपने सज़ा पा रहे हैं.

 हिंदू मुसलमां रहे अब न कोई,
 इंसानियत की ग़ज़ल गा रहे हैं. !!

 

Sandeep Bhutani Poetry Collection

Subscribe Us For Urdu Poetry, Ghazals, Poetry, Shayari, Nazms, Poems.

Mar Mar Ke Roz Hi Jeete Hain..

Sandeep Bhutani Poetry

Mar mar ke roz hi jeete hain,
chal aaj toh khul ke jeete hain.

Ab bas daftar aur nahin,
kuchh toh bhi kar chal jeete hain.

Hairaan hun ab raftaar se main,
zara ruk toh sahi chal peete hain.

Ab bas bhi kar chal jeete hain,
ab shaam hui chal peete hain.

Bheje ki bas kar dil ki sun,
ab dil ki pyaas mein peete hain.

Ab hosh ki baat ka naam na le,
chal be-hoshi tak peete hain.

Umeed pe duniya qaayam hai,
ab chhutti hai chal jeete hain.

Har mod pe mushqil taaq mein hai,
mushqil ko jeet ke jeete hain.

Kuchh aur jo ab ke na ho sake,
do ghoont zehar ke peete hain. !!

मर मर के रोज़ ही जीते हैं,
चल आज तो खुल के जीते हैं.

अब बस दफ़्तर और नहीं,
कुछ तो भी कर चल जीते हैं.

हैरान हूँ अब रफ़्तार से मैं,
ज़रा रुक तो सही चल पीते हैं.

अब बस भी कर चल जीते हैं,
अब शाम हुई चल पीते हैं.

भेजे की बस कर दिल की सुन,
अब दिल की प्यास में पीते हैं.

अब होश की बात का नाम न ले,
चल बे-होशी तक पीते हैं.

उम्मीद पे दुनिया क़ायम है,
अब छुट्टी है चल जीते हैं.

हर मोड़ पे मुश्किल ताक़ में है,
मुश्किल को जीत के जीते हैं.

कुछ और जो अब के न हो सके,
दो घूँट ज़हर के पीते हैं. !!

 

Sandeep Bhutani Poetry Collection

Subscribe Us For All Types & All Urdu Legend Poet’s Poetry. Ghazals, Poems, Poetry, Shayari, Shairi, Shair, Nazms, Sad, Life, Love.