Home / Ghazals / Baat Se Baat ki Gehrai Chali Jaati Hai..

Baat Se Baat ki Gehrai Chali Jaati Hai..

Baat se baat ki gehraai chali jaati hai
jhooth aa jaaye toh sachchaai chali jaati hai.

Raat bhar jaagte rahne ka amal theek nahin
chaand ke ishq mein binaai chali jaati hai.

Maine is shehar ko dekha bhi nahin jee bhar ke
aur tabiyat hai ki ghabraai chali jaati hai.

Kuchh dinon ke liye manzar se agar hat jaao
zindagi bhar ki shanasaai chali jaati hai.

Pyaar ke geet hawaaon mein sune jaate hain
daF bajaati hui ruswaai chali jaati hai.

Chhap se girti hai koi cheez ruke paani mein
door tak phaTti hui kaai chali jaati hai.

Mast karti hai mujhe apne lahoo ki khushboo
zakhm sab khol ke purvaai chali jaati hai.

Dar-o deewaar pe chehre se ubhar aate hain
jism banti hui tanhaai chali jaati hai. !!

बात से बात की गहराई चली जाती है
झूठ आ जाए तो सच्चाई चली जाती है।
 
रात भर जागते रहने का अमल ठीक नहीं
चाँद के इश्क़ में बीनाई चली जाती है।
 
मैंने इस शहर को देखा भी नहीं जी भर के
और तबीयत है कि घबराई चली जाती है।
 
कुछ दिनों के लिए मंज़र से अगर हट जाओ
ज़िंदगी भर की शनासाई चली जाती है।
 
प्यार के गीत हवाओं में सुने जाते हैं
दफ़ बजाती हुई रूस्वाई चली जाती है।
 
छप से गिरती है कोई चीज़ रूके पानी में
दूर तक फटती हुई काई चली जाती है।
 
मस्त करती है मुझे अपने लहू की खुश्बू
ज़ख़्म सब खोल के पुरवाई चली जाती है।
 
दर-ओ दीवार पे चेहरे से उभर आते हैं
जिस्म बनती हुई तन्हाई चली जाती है।।
Baat Se Baat ki Gehrai Chali Jaati Hai..
Please Rate this poetry!

About Poetry One

~ ~ Poetry One -All the Best poetry from Urdu and Hindi world. Find Best, famous, memorable, and popular poems & poetry from top Shayars and poets from Pakistan, India. An evergreen collections of shayaries for Love, Life, Sadness & Romance ~ ~

Check Also

Kitne Aish Se Rahte Honge Kitne Itraate Honge – Jaun Eliya

Kitne aish se rahte honge, kitne itraate honge Jaane kaise log woh honge jo usko …

Leave a Reply

Your email address will not be published.